Translate

Search This Blog

Saturday, November 5, 2016

માનસ રામદેવ પીર


રામ કથા

માનસ રામદેવ પીર

રામદેવરા, રાજસ્થાન

શનિવાર, તારીખ ૦૫-૧૧-૨૦૧૬ થી રવિવાર, તારીખ ૧૩-૧૧-૨૦૧૬

મુખ્ય પંક્તિ


धन्य  भरत  जय  राम  गोसाईं।  

कहत  देव  हरषत  बरिआईं॥


............................................................२-३०८/१

करुनामय  रघुनाथ  गोसाँई।  

बेगि  पाइअहिं  पीर  पराई॥

......................................................................૨-૮૪/૨


શનિવાર, ૦૫-૧૧-૨૦૧૬

રામ ચરિત માનસમાં પીર શબ્દ ૧૮ વખત વપરાયો છે.

પીર શબ્દ વપરાયો હોય તેવી કેટલીક પંક્તિઓ નીચે પ્રમાણે છે.

जानत जन की पीर प्रभु भंजिहि दारुन बिपति॥

ऐसिउ  पीर  बिहसि  तेहिं  गोई।  चोर  नारि  जिमि  प्रगटि  न  रोई॥

करुनामय  रघुनाथ  गोसाँई।  बेगि  पाइअहिं  पीर  पराई॥1॥

सोक  सिथिल  रथु  सकइ  न  हाँकी।  रघुबर  बिरह  पीर  उर  बाँकी॥

निरखि राम छबि धाम मुख बिगत भई सब पीर॥

ब्याधि नास हित जननी गनति न सो सिसु पीर।।

આ આખું વિશ્વ તીર્થ છે.

રાજસ્થાન ધીર, વીર અને પીરની ભૂમિ છે. અહીં મીરા જેવા ધીર સંત, રાણા પ્રતાપ જેવા વીર અને રામદેવ પીર થયા છે.

જ્યાં રામ કથા થાય તે સ્થળ તીર્થ બની જાય છે.

આપણું મન એ અશ્વ સમાન છે. જેનું મન હર્યુંભર્યું હશે તેના મન રૂપી અશ્વ ઉપર રામદેવ પીર સવારી કરશે.

રામદેવ પીરે ૨૪ પરચા આપ્યા છે તેમજ સમાધિ સમયે ૨૪ ફરામન આપ્યા છે. આ ૨૪ ફરમાન ૨૪ અવતારોના એક એક સૂત્ર છે.

અજમલ શબ્દમાં 'અજ' એટલે જેનો જન્મ નથી થતો તે અને 'મલ' એટલે મેલ, ગંદકી, બુરાઈ
આમ અજમલ એ છે જેના જીવનમાં મેલ, ગંદકી, બુરાઈ પ્રગટ નથી થઈ.

પીરના ઘણા અર્થ થાય છે.

"ભગવદ્ગોમંડલ" - ગુજરાતી શબ્દ કોશમાં આપેલા "પીર" શબ્દના કેટલાક અર્થ નીચે પ્રમાણે છે.

અમીર; ઉમરાવ;ઘરડો માણસ; ડોસો; વૃદ્ધ; દેવત્વ પામેલો મુસલમાન સંત; વલી; મુસલમાન ઓલિયો; મુસલમાનોમાં પવિત્ર ગણાતો પુરુષ; મરણ પામેલ મુસલમાન સંત; પવિત્ર માણસ; સાધુ;;પિતા; બાપ;પ્રભુ; પરમાત્મા; મહાત્મા; સિદ્ધ; પીડા; દર્દ; દુ:ખ; વ્યાધિ વગેરે

પીરનો એક અર્થ કિનારો - તીર થાય છે.

જે આપણને કિનારે લઈ જાય, ડૂબવા ન દે તે પીર છે.

પીર નો એક અર્થ તીર્થ થાય છે.

પીર એટલે તીર્થ.

આપણામાં તીર્થત્વ આવી જાય તો આપણે પણ પીર છીએ.

નખશીખ પવિત્ર વ્યક્તિ પીર છે.

પીર નો એક અર્થ સાધુ થાય છે.

પીર નો એક અર્થ ઉત્સવ થાય છે.

જે આઠે પહોર ઉત્સવ પ્રિય હોય, આઠે પહોર આનંદમાં રહે તે પીર છે.

પીરનો એક અર્થ તાત, બાપ થાય છે.

પીરનો એક અર્થ ઓલિયો થાય છે.

પીરનો એક અર્થ સાચા રસ્તાનો માર્ગદર્શક, ઉપદેશક થાય છે.

પીરનો એક અર્થ પીડા થાય છે.

જે બીજાની પીડા સમજે તે પીર છે.

વૈષ્ણવજન તો તેને રે કહીએ જે પીડ પરાઈ જાણે રે...

सोक  सिथिल  रथु  सकइ  न  हाँकी।  रघुबर  बिरह  पीर  उर  बाँकी।

જેનામાં કરૂણા, દયા, આર્દ્રતા, ક્ષમા છે તે પીર છે.

જે નિરંતર સત્ય પથ ઉપર ચાલે તે પીર છે.

આપણી જડ બુદ્ધિ જ અહલ્યા છે.

બધાને મહોબત કરે તે પીર છે.

પીર એટલે કરૂણા.

જેનામાં સત્યત્વ, પ્રેમત્વ અને કરૂણા છે તે પીર છે.

અન્નક્ષેત્ર એ બ્રહ્મક્ષેત્ર છે.

જે બીજા માટે વિના હેતુ સર્વસ્વ ત્યાગ કરે છે તે પીર છે.

પરમ પુરૂષાર્થી પીર છે.

આપણી સરહદની રક્ષા કરનાર સૈન્યના બધા જ જવાન પીર છે.

અનુભૂત જીવન  શૈલી એટલે પીર.

સંવેદના પીર છે.

પોખરણ એ અણુતીર્થ છે.

પીર એ અખંડ સંયમનું પ્રતીક છે.

પરીચય કરાવી દે તેને પરચો કહેવાય.

આચાર્ય રામભદ્રાચાર્યજીનું નિવેદન છે કે, "સર્વ ગ્રંથાન પરિતજ્ય મનસમ્‌ શરણમ્‌ વ્રજ".

રવિવાર, ૦૬-૧૧-૨૦૧૬


રામદેવપીર વિચાર ધારામાં - પરંપરામાં બીજ પંથ, નિજ ધરમ, નિષ્કલંક ધારા, નિજાર વગેરે પ્રચલિત છે.

નિજાર પંથ એટલે જેનો સંયમ ક્યારેય ભ્રષ્ટ ન થયો હોય તે પંથ.

બીજ મંત્ર - બીજ પંથનો અર્થ

રામ ચરિત માનસ બીજ છે.
રામદેવપીર બાર બીજના ધણી છે.

આમ તો વર્ષમાં ૨૪ બીજ આવે પણ તે ૨૪ બીજમાંથી અંધકાર પક્ષની ૧૨ બીજ ગણી નથી. કારણ કે પ્રકાશવાળી ૧૨ બીજનું પૂજન કરવું જોઈએ અને અંધકારની ૧૨ બીજ તજ્ય ગણી છે.

જે રોજ વિકસિત થાય તે બીજ છે.

बीज सकल ब्रत धरम नेम के॥
બીજ મંત્ર
શંકર ભગવાનનો બીજ મંત્ર રામ છે.

પૂર્ણિમાના ચાંદમાં કાળા ડાઘ છે જ્યારે બીજના ચંદ્રમાં કોઈ ડાઘ નથી, કોઈ કલંક નથી.

બીજા વ્યક્તિનો વિકાસ - પ્રગતિ જોઈ જો આપણું અંતઃકરણ રાજી થાય તો આપને બીજું કશું કરવાની જરૂર નથી.

परम धर्म श्रुति बिदित अहिंसा।

पर निंदा सम अघ न गरीसा।।

જગતનો પરમ ધર્મ - શ્રેષ્ઠ ધર્મ અહિંસા છે.

કોઈનું મન, વચન, કર્મથી શોષણ ન કરવું એ અહિંસા છે.

નિજ ધર્મ એટલે સ્વ ધર્મ, પોતાનો ધર્મ.

"રામ" ના સાહિત્યિક શબ્દ કોષ મુજબના અર્થ


  • પ્રેમી

પ્રેમીને રામ કહેવાય.
रामहि  केवल  प्रेमु  पिआरा।  

जानि  लेउ  जो  जान  निहारा॥

રામદેવપીરે છેલ્લા માણસને પ્રેમ કર્યો હતો.

  • આત્મા

રામ એટલે આત્મા.

  • જીવ
  • તાકાત, બળ, શક્તિ

રામ બળવાન છે જેમનું બળ સંગઠનમાં વપરાય છે.
બળવાનોનું બળ હું છું એવું કૃષ્ણ ગીતામાં કહે છે.

  • હિંમત, સાહસ
  • ઉમંગ, ઉત્સાહ
  • ઘોડો, અશ્વ
  • તમાલ પત્ર
  • અશોક વૃક્ષ

દેવના અર્થ

  • ધર્મ
  • આકાશ 

જે આકાશ માફક વિશાળ છે, સંકુચિત નથી તે.

  • સાધુ
  • મુનિ - જે મૌન રહે છે.
  • કૃષ્ણ
  • તેજોમય , તેજસ્વી
  • મેઘ

આપણા ઉપર કાળનો પ્રભાવ પડે, ગુણનો પ્રભાવ પડે, કર્મનો પ્રભાવ પડે, આપણા સ્વભાવનો પ્રભાવ પડે તેમજ આપણા પ્રારબ્ધનો પ્રભાવ પડે.


સોમવાર, ૦૭-૧૧-૨૦૧૬

આ સંસારમાં જે પરમ છે એવી વિભૂતિઓનો પ્રભાવ, પ્રકાશ, પ્રતાપ ચારેય યુગમાં હોય છે.

જેમ પરમ ચારે યુગમાં હોય તેમ પરમની વિભૂતિ પણ ચારેય યુગમાં હોય.

રામદેવપીરમાં રામ એ સત્ય છે.

અવતાર, ગુરૂ આપણી દ્રષ્ટિ બદલે.

રામદેવપીર બાબા એ ચોરની દ્રષ્ટિ જ બદલી નાખી અને ચોરને એક સાધુ બનાવી દીધો.

સાધુ તેમજ સંન્યાસી આંધળા, બહેરા, ગુંગા, પંગુ હોય. આ દુનિયા પ્રત્યે તેમનો વર્તાવ આંધળા, બહેરા, ગુંગા, પંગુ જેવો હોય.

સાધુતાને પકાવવી બહું અઘરી છે.

મૃત્યુ અમૃત છે, સદ્‌ગુરૂ છે, પરમાત્મા છે.

રામ રામ તેમજ મરા મરા એ પરમાત્મા જ છે.

જ્ઞાનમાં અવસ્થા હોય, ભક્તિમાં ભૂમિકા હોય.

કોઈ સત્ય બોલે તેનો સ્વીકાર કરવો એ સત્‌સંગ છે.  ધર્મ માટે ધનની જરૂર નથી પણ મનની જરૂર છે.   ......સ્વામી રામસુરદાસજી

આજ્ઞા સમ ન શું સાહિબ સેવા.

સતસંગ મૌન હોવો જોઈએ તેમજ મુક્ત પણ હોવો જોઈએ.

પ્રેમ મહારોગ છે.

રામદેવપીર બાબા ચોરને દિલને પ્રેમનો મહારોગ લગાડી દે છે એવો અર્થ ડિલે કાઢુ કોઢ નો થાય.

જે પરમ સાથે જોડાય તેને બહું પીડા થાય. પણ આવી પીડા ઘણા સુખોથી પણ વધારે સુખદાયક હોય.

રામદેવપીર માં રામ એ સત્ય છે, દેવ એ પ્રેમ છે અને પીર કરૂણા - અનુકંપા છે.

પ્રેમ દેવો ભવઃ

સત્ય ચારેય જુગમાં હોય, પ્રેમ પણ ચારેય જુગમાં હોય અને કરૂણા પણ ચારેય જુગમાં હોય.

વિભુનો અંત નથી તેમજ વિભુની વિભૂતિનો પણ અંત નથી.

બીજ મંત્રનો ઉઅપદેશ શંકર પાસેથી લેવો, શંકર સ્વરૂપ ગુરૂ પાસેથી લેવો.

મધુસુદન સરસ્વતી ભગવાન કહે છે કે, "પ્રેમ આદિ છે તેમજ પ્રેમ અંત છે." આ આદિ અને અંત વચ્ચે ૪ પડાવ આવે છે જેમાંઓનો એક પડાવ વ્યાકુળતા છે.

પહેલો પડાવ પરિણિતા છે જેમાં લગભગ પૂર્ણતાનો અહેસાસ થાય છે, હું ભરાઈ ગયો છું એવો અહેસાસ થાય છે, તેમજ ચાહ મુક્ત ચાહનાની સ્થિતિનો અહેસાસ થાય છે.

બીજો પડાવ નિત્ય યોગ છે જેમાં નિરંતર સંયોગ, નિરંતર ચૈતસિક અનુસંધાન રહે છે.

ત્રીજો પડાવ વ્યાકુળતા છે જેમાં અંદર નિરંતર અનુસંધાન હોવા છતાં દર્શનની આતુરતા રહે છે. આપણે વિયોગ - વ્યાકૂળતાની પસંદગી કરવી જોઈએ. આ આર્ત ભક્તિ કહેવાય.વ્યાકૂળતા આવ્યા પછી નિર્જનતા આવી જાય ભલે પછી આપણે માણસોની ભીડમાં હોઈએ.

ચોથો પડાવ મૌન નો છે. કૃષ્ણની વિદાય પછી રાધાનું કોઈ નિવેદન નથી, રાધા મૌન થઈ ગઈ છે. પૂર્ણતા પામ્યા પછી બાળક માફક બની જવાય.

૧૨ બીજનાં નામ
  1. કર્મ બીજ - મન
  2. વચન બીજ - ઊર્જા શક્તિ
  3. બિંદુ બીજ - ત્રિકુટી
  4. વાસના બીજ - વિચાર
  5. ઉત્પતિ બીજ - બ્રહ્મ ઉત્પતિ
  6. કોરમ બીજ
  7. બ્રહ્મ બીજ - ઓમકાર

  8. પ્રેમ બીજ - બ્રહ્મમાંડ
  9. અલિ બીજ - નાભી
  10. એઅજ બીજ - 
  11. ઓમકાર બીજ - કાયા 

મંગળવાર, ૦૮-૧૧-૨૦૧૬

આપણે બધા ઈશ્વર અંશના અંશાવતાર છીએ અને તેનો આપણે અહોભાવ કરવો જોઈએ, અહંકાર ન કરવો જોઈએ.

ઈશ્વર અંશ જીવ અવિનાશી

પરમનું અનુસરણ સારું છે પણ પરમનું અનુકરણ યોગ્ય નથી. પરમે જે કર્યું છે તેવું આપણે કરી ન શકીએ.
આશ્રિત બનવામાં મઝા છે, પરમ બનવાની ચેષ્ટા ન કરવી.

સત્ય અચલ છે.

દેવ - પ્રેમ અચલ હોય અને ચલ પણ હોય. પ્રમ સ્થિર હોય તેમજ ચલિત પણ હોય. પ્રેમ ક્યારેક સ્થંભિત કરી દે.

પીર - કરૂણા સદૈવ ચલિત હોય. કરૂણા પ્રવાહમાન જ હોય.

તુલસી બે નારીની વાત કહે છે, એક નારી માયા રૂપી નારી છે જ્યારે બીજી નારી ભક્તિ રૂપી નારી છે.

સાહસ એ માયારૂપી નારીનો અવગુણ છે જ્યારે ભક્તિરૂપી નારીનું આભૂષણ છે, શ્રીંગાર છે. ભક્તિ કરનારે સાહસ કરવું જ પડે.
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

  • Below article is reproduced here with the courtesy of udaipurnews for our viewers.

रामा पीर के धाम में जन्में राम

रामकथा के चौथे दिन गूंजे बधाई गान
वीर धरा एवं भक्ति कुंभ

Read the article at its source link. 


रामदेवरा। विश्वास रूपी राम का प्राकृट्य हो इसके लिए हद्य रूपी अयोध्या में भाव जगाने होंगे। प्रभु राम जन्म के प्रसंग से अलौकिक रामा पीर की नगरी रामदेवरा में मुरारी बापू की रामकथा के चौथे दिन मंगलवार को चहुंओर बधाई गान गूंजे।

जाट धर्मषाला के निकट स्थित रामकथा पाण्डाल में ‘‘आओं हरि आओ’’ जैसे भजन एवं चौपाइयों के साथ जब बापू ने प्रभु राम के जन्म का ऐलान किया तो पाण्डाल खुषी से भाव विभोर हो गया। कथा प्रसंग का ऐसा अनूठा नजारा बन पडा मानों रामा पीर की धरती पर राम ने फिर से जन्म लिया हो। परिवेष भी राममय हो गया। पाण्डाल में ‘‘प्रकट कृपाला दिन दयाला…, आज अवध में आनंद भयों…, जय रघुवरलाल की…’’ भजनों के साथ हजारों की संख्या में मौजूद भक्त एक साथ खडे होकर बधाइंया गाने लगे।
081108हम सभी अंशावतार है : मुरारी बापू ने मानस रामदेव पीर के प्रसंग को आगे बढाते हुए बताया कि बाबा पीर कृष्णर, उनके बड़े भाई बलराम तथा उनकी धर्मपत्नी रूकमणि का अवतार रही है। ग्रन्थों में लिखा गया है कि पीर बाबा का घोड़ा गरूड़ ही रहे। रावण भी एक अवतार है और रामकृष्णं को पूर्णावतार कहा गया है। भागवतकाल में सूर्य एवं सौम्य वंश ही बताया गया है। अजमलजी पाण्डू वंश के, राघव सूर्यवंशी तथा रामदेव चन्द्रवंशी है। ईश्व्र के रूप में हम सभी अंशावतार है। घमण्ड या अहंकार के स्थान पर हमें सिर्फ अहोभाव लेना चाहिए कि हम मात्र एक अंश के अवतार है। हम सागर नहीं हैं लेकिन उसकी बूंद तो हैं, हम सूरज नही हैं, लेकिन दीपक तो हैं।

बेटी जन्मे तो उत्सव मनाओ : जहां नारी का सम्मान होता है वहां देवताओं का वास होता है। कन्या जन्म से राश्ट्र की सम्पत्ति, विभूति और ऐश्व र्य बढ़ता है। स्त्री में सात विभूति होती है। घर में बेटी आई तो समझों सात विभूतियां प्रकट हुई। परिवार में जब बेटी का जन्म हो तो उसे बडा उत्सव समझों। बापू ने कहा कि मैं व्यासपीठ के माध्यम से आह्वान करता हूं कि कन्याओं का सम्मान होना चाहिए। कन्या शक्ति, विद्या, श्रद्धा, क्षमा का रूप है उसका स्वागत करना चाहिए। बापू ने बेटे एवं बेटियों में भेदभाव नही करने का आह्वान किया। भारत देष एवं धरती को भी हम माता कहते है। बेटी एक नही तीन घरों को तारती है।

नारी के आठ गुण, अवगुण : गोस्वामी तुलसीदासजी ने माया एवं भक्ति नामक नारी के वर्णन किये है। माया के अवगुण भक्ति का श्रृंगार एवं आभूषण बन जाते है। माया रूपी स्त्री में साहस, झूठ, चंचलता, कपट, भय, अविवेक, चिंता एवं निर्दय आठ अवगुण होते हैं। शास्त्रीय बोली में माया में चंचलता को व्यभिचारिणी की संज्ञा दी गई है और वहीं भक्ति में चंचलता को अभिचारिणी कहा गया है।

सुनना परम भक्ति : सुनना एक विज्ञान भी है और परम भक्ति भी। आपने क्या सुना इसके लिए मैं जिम्मेदार नही हूं। मैंने क्या कहा, मैं सिर्फ इसके लिए जिम्मेदार हूं। सुनना बडी कला है और यह भी एक प्रकार की भक्ति है। मन को स्थिर एवं शुद्ध करके जिसको ध्याया जाता है वह परम तत्व राम है। आलोचना होनी चाहिए लेकिन निन्दा नही होनी चाहिए। भरोसा भी एक भजन है। विश्वाआस जीवन है और संशय मौत है। संशय बुद्धि का नाश करता है। विश्वाणस व्यक्तिगत होता है, आम या खास नहीं।

गुरूद्वार जाया करो : वर्तमान में गुरू के द्वार पर जाने तथा उसके निर्णय को स्वीकार करने पर मुक्ति मिलती है। जब सब द्वार बंद हो जाए तब गुरूद्वार अवश्यन जाना चाहिए। हरि नाम में इतनी ताकत है कि भक्त का कभी विनाश नहीं हो सकता। अच्छा एवं बुरा प्रभु की इच्छा पर निर्भर है। अनुकूल परिणाम आये तो भी ईश्वुर ईच्छा है और प्रतिकूल परिणाम आये तो भी प्रभु इच्छा ही है।

रामदेवरा में रौनक : संत कृपा सनातन संस्थान की ओर से आयोजित रामकथा के चौथे दिन कथा स्थल पर न्यायाधीपति गोपालकृष्णा व्यास ने सपत्नीक, संयोजक मदन पालीवाल, प्रकाश पुरोहित, रविन्द्र जोशी, रूपेश व्यास, विकास पुरोहित सहित कई गणमान्य अतिथियों ने व्यासपीठ पर पुष्पन अर्पित किये तथा कथा श्रवण का लाभ लिया। इस मौके पर सीमा सुरक्षा बल के जवान एवं अधिकारी भी उपस्थित थे।


--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
The article displayed below is with the courtesy of udaipurnews.

रामकथा ही जीवन हैं – बापू

राम कथा का पांचवा दिन

Read the article at its source link.

रामदेवरा। शिष्य भाव में श्रद्धा से जुड़े हाथ, झुकी पलकों में अनन्य आशीष का आग्रह, होंठो पर समुधर गुणगान और मन में अथाह प्रेम भक्ति की गंगधार। बाबा रामदेव की नगरी रामदेवरा में मुरारी बापू की रामकथा के पांचवे दिन यही भाव साकार हुआ। पांचवे दिन प्रातः आठ बजें से ही जन समुदाय का महारैला उमड़ पड़ा। जिसे देखो, वही राममय नजर आया। अपार भीड़ क्या महिलायें, क्या पुरूष, क्या युवा, क्या बच्चे, क्या बुजुर्ग सभी रामकथा स्थल की ओर बढ़ते नजर आए।

व्यासपीठ से हजारों श्रोताओं को सत्य की महत्ता बताते हुए बापू ने कहा कि सत्य हमेषा हरा भरा होता है। प्रेम चल और अचल होता है। चल रूप में प्रेम हमेषा बढ़ता है लेकिन अचल रूप में कभी कभी मूर्छा आ जाती है। करूणा सदैव चल होती है और हमेषा बहती रहती है। सत्य के साथ जो जुड जाता है वह सच्चा होता है। इंसान क्या सोचता है और क्या करता है, इसके साक्षी भगवान सूर्य है।
बापू ने कहा कि जीवन की रामकथा में सबसे बड़ा असुर मोह है। मोह विस्तारित षब्द है। रावण को जितना प्रभाव मिलता गया उसकी अपेक्षायें उतनी ही बढ़ती गई और वह रावण बन गया। दस मुंहों वाला रावण भले ही मर गया हो लेकिन षिवभक्त, साधक, विद्वान, कवि के रूप में रावण अजर व अमर है।
बाबा रामदेव पीर के जीवन पर प्रकाष डालते हुए बापू ने कहा कि बाबा रामदेव भगवान कृश्ण के अवतार है। कृश्ण के साथ जो जो घटना घटी वही बाबा रामदेव के साथ भी घटित हुई। इस्लाम धर्म को मानने वालों ने बाबा को अलग रूप में देखा। बाबा रामदेव ने अछूतों का उद्धार इस रूप में किया कि श्रेश्ठों का भी कभी अपमान नही हो। फरेब को रामदेव पीर टिकने ही नही देते है। बापू ने रामकथा के दौरान नामकरण संस्कार, यज्ञोपवित संस्कार, गुरू विश्वाकमित्र और प्रभु राम, अहिल्या उद्दार प्रसंगों को दर्शाया। बापू ने कहा कि धर्म स्तम्भ जैसा महान स्तम्भ कोई नही है।
भक्ति रूपी भाव में असत्य भी भूशण है। अनुकूलता, आकर्शण और आत्मीयता जीवन की सत्य एवं काम प्रेरक वस्तु है। इच्छायें कामनाओं को जन्म देती है। आत्मीयता रस वृद्धि का कारण बनती है लेकिन यही आत्मीयता महारस की ओर ले जाये तो बेड़ा पार हो जाता है। दूसरों के प्रति द्वेश, ईर्श्या या निन्दा ना हो तो साधक को कोई साधना करने की जरूरत ही नही पड़ती है। निन्दा आज व्यसन नही ष्वसन हो गया है। दूसरों से ईर्श्या करना महा पाप है।

समग्र राष्ट्रस हिताय समग्र राष्ट्रन सुखाय
केन्द्र सरकार की ओर से 500 और 1000 के नोट बंद करने के निर्णय पर बापू ने कहा कि देषहित में जो भी निर्णय होते हैं, वह सबको स्वीकार्य होना चाहिए। सामान्यजन को नुकसान ना हो, इसके लिए जो उपाय सरकार ने अपनायें है उनकों और सरल बनाया जाना चाहिए। सामान्यजन के पसीने की कमाई व्यर्थ ना जाए इसे विशेष ध्यान में रखा जाए।

आज के कार्यक्रम : रामकथा के तहत आयोजित सांस्कृतिक संध्या में गुरूवार षाम को 6 बजें कथा स्थल प्रांगण में प्रसिद्ध गायिका अलका ठाकुर और राजस्थानी संगीत का जलवा बिखेरने वाले लंगा मणियार ग्रुप के हासन खां एवं पार्टी अपनी प्रस्तुति से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करेंगे।

--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
The article "ज्ञान चुप रहता है और भक्ति चर्चा करती है : मुरारी बापू" displayed below is with the courtesy of the udaipurnews.

ज्ञान चुप रहता है और भक्ति चर्चा करती है : मुरारी बापू

जनमेदिनी डूबी भक्ति रस में
मानस रामदेव पीर के छठे दिन उमड़ा जनसैलाब

Read the article at its source link.

रामदेवरा। ज्ञान चुप रहता है और भक्ति भगवत में लीन रहती है। सांसारिक जीवन में सबसे बडा पदार्थ भक्ति है। जहां भक्ति है वहां जग है। भक्ति बैकुण्ठ में नही बल्कि पृथ्वी पर है क्योंकि भक्ति पृथ्वी की बेटी है। यह उद्गार राश्ट्रीय संत मुरारी बापू ने रामदेवरा में आयोजित रामकथा के छठे दिन गुरूवार को व्यासपीठ से अपने आषीर्वचन प्रदान करते हुए व्यक्त किये।

बापू ने भक्ति के बारें में विस्तार से चर्चा करते हुए बताया कि भगवान को भक्ति के भवन में ठहराया जा सकता है। जहां भक्ति होती है वह भवन ही सुन्दर होता है, वहां भगवान का वास होता है। भगवत चर्चा का इंसान को सदुपयोग करना चाहिए। किसी परम का स्पर्श होते ही बुद्धि शुद्ध हो जाती है। परमात्मा को छोडकर परमात्मा में खो जाना यह सदगुरू का ही प्रभाव है। बापू ने रामकथा के दौरान प्रभु राम के नगर भ्रमण के प्रसंगों को दर्शाया।
रामदेव पीर आज की आवश्य कता : मुरारी बापू ने रामकथा के छठे दिन मानस रामदेव पीर के वृतांत को आगे बढ़ाते हुए कहा कि बाबा क्रांतिकारी, शांतिकारी एवं भ्रांतिहारी अवतारी थे। वो आज के युग की आवष्यकता है। जो दूसरों की पीर को समझे वही पीर है। सत्य, प्रेम और करूणा का प्रचार नही करना पडता है। पीर कोई भी हो लेकिन उसके मन में षिव का संकल्प होना जरूरी हैं। कुपात्र और अपात्र को पात्रता दे वही पीर कहलाता है। जो षाष्वत रहता है उसके मूल में सच्चाई व पिराई होती है। परम तत्व अवतरित होते है तो उसके साथ अन्य चेतनायें भी आती है जो किसी ना किसी रूप में उस परम तत्व से जुडी हुई रहती है। हरेक देषकाल में कोई ना कोई परम तत्व हुआ है। जीवन में पात्र का नही पात्रता का मूल्य होता है। अहंकार इंसान की पात्रता को कमजोर करता है। स्वर्ग उपाधियों से एवं रामदेवरा समाधियों से भरा है। धर्म प्रीत एवं साधना को स्वयं उन व्यक्तियों के पास चला जाना चाहिए जिनके पास इनका अभाव है। जीवन के भय से भाग चुके लोगों को सचेत करना मृतक व्यक्ति को जीवित करने के समान है।

अब तो बादल जाने या वसुन्धरा : बीज तो मैने बोया है, अब बादल या वसुन्धरा (पृथ्वी) जाने। साई मकरंद दवे की उक्त पंक्तियों का उल्लेख करते हुए मुरारी बापू ने राजस्थान को हरा भरा करने के लिए नव वन क्षेत्र विकसित करने का राजस्थानवासियों एवं सरकार से आह्वान किया है। उन्होने नव वन क्षेत्र के रूप में बाबा रामदेव पीर वन, श्रीनाथद्वारा वन, महादेव (एकलिंगजी) वन क्षेत्र, मीरा वन, महाराणा प्रताप वन, भामाषाह वन, साहित्यकारों के नाम पर कवि मनीशी वन, षील, संस्कार एवं सतीत्व वन तथा नीम (निम्बार्क) वन को विकसित करने का आह्वान किया तथा पर्यावरण के प्रति लोगों की जागरूकता बढ़ाने के लिए बापू ने स्वयं संकल्प लिया कि वे स्वयं रामदेवरा में पांच पौधे लगाकर जायेंगे।

राष्ट्रिनीति में तीन मत जरूरी : बापू ने कहा कि राष्ट्रानीति में तीन मतों का षुमार होना जरूरी है। पहला मत साधु या आचार्य का होता है जिसमें तीन षील जरूरी है। वह निर्भय हो, निष्पाक्ष हो तथा निरवैर हो। बापू ने दूसरा मत लोकमत तथा तीसरा मत मूल ग्रंथों एवं वेदों के निचोड़ को बताया।
गुजरात एवं राजस्थान का अभिन्न सम्बन्ध : बापू ने कहा कि राजस्थान एवं गुजरात का गहरा नाता है। राजस्थान का सम्बन्ध मीरा, महाराणा प्रताप और बाबा रामदेव से है तो द्वारिकाधीष, चेतक और बाबा रामदेव के अवतार की प्रक्रिया गुजरात से है। राजस्थान ने महाराणा प्रताप जैसा सोना तथा मीरा जैसा रतन दिया है। वही गुजरात में गौ लोक और वैकुण्ठ से कृष्ण  ब्रज आये तथा ब्रज से सौराश्ट्र होकर बाबा रामदेव के रूप में रामदेवरा आये। बापू ने कहा कि विश्वध में मंदिर कही भी बने लेकिन ज्यादातर उसकी मूर्तियां राजस्थान की खदानों से बनी हुई है। बाबा रामदेव अवतार के फूल में यहां खिलें लेकिन उनकी खुषबु मक्का तक रही है। मरूधरा वैसें तो बहुत खुष है लेकिन मीरा के आंसू ने इस धरा को सींचा है।

रामकथा के छठे दिन कथा स्थल पर भाजपा के राश्ट्रीय महासचिव कैलाष विजयवर्गीय, राजस्थान सरकार के खान, पर्यावरण एवं वन मंत्री राजकुमार रिणवा के साथ ही कथा संयोजक मदन पालीवाल, प्रकाश पुरोहित, रविन्द्र जोशी, रूपेष व्यास, विकास पुरोहित सहित कई गणमान्य अतिथियों ने व्यासपीठ पर पुश्प अर्पित किये तथा कथा श्रवण का लाभ लिया।

आकाशवाणी कलाकार चौहान ने बांधा समां : रामकथा के दौरान पाण्डाल में मौजूद मूलतः फलौदी के रहने वाले आकाषवाणी जोधपुर के कलाकार ओमप्रकाश चौहान ने बापू के कहने पर बाबा रामदेव का भजन रूणिचे रा राजा अजमाल जी रा बेटा सुनाकर संपूर्ण पाण्डाल को भक्तिमय बना दिया।

_________________________________________________________________________________


રામદેવપીર બાબાનાં ૨૪ ફરમાન


સદર માહિતિ "બાબા શ્રી રામદેવ પીર"  બ્લોગ આધારિત છે અને તેમના સૌજન્ય સહ અત્રે પ્રસ્તુત કરી છે.
તેમજ આ બ્લોગના લેખકે તેનો સંદર્ભ "Jail Ramapir" નો દર્શાવ્યો છે.

Read these 24 divine commands of Ramapir at its source links  (1) - Jai Ramapri and (2) બાબા શ્રી રામદેવ પીર.




We are highly obliged of these two sources. 



વિક્રમ સંવત ૧૫૧૫ ભાદ્રપદ સુદી ૧૧ને ગુરુવારના રોજ ભગવાન શ્રી રામદેવજી મહારાજે મહાસમાધીમાં પ્રવેશ કર્યો ત્યારે નિજ ભક્તોને ચોવીસ ફરમાનરૂપે અંતિમ બોધ આપ્યો. તે ચોવીસ ફરમાનો નીચે પ્રમાણે છેઃ

કહે રામદેવ સુણો ગતગંગા,

(૧)

પાપથી કાયમ દૂર રહેવું ધર્મમાં આપવું નિજ ધ્યાન;
જીવમાત્ર પર દયા રાખવી ભુખ્યાને દેવું અન્નદાન.

(૨)

ગુરુચરણમાં પાપ પ્રકાશો પરમાર્થ કાજે રહેવું તૈયાર;
જૂજ જીવવું જાણી લેજો કરવો સાર અસારનો વિચાર.

(૩)

વાદ વિવાદ કે નિંદા ચેષ્ટા કરવી શોભે નહિ ગતના ગોઠીને;
આવતા વાયકને હેતે વધાવવું નિજ અંતર ઢંઢોળીને.

(૪)

ગુરુપદ સેવા પ્રથમ પદ જાણો મળે જ્ઞાન સારને ધાર;
ધણી ઉપર ધારણા રાખો તો ઉપજે ભક્તી તણી લાર.

(૫)

તનથી ઉજળા મનથી મેલા ધરે ભગવો વેશ;
તે જન તમે જાણો નુગરા જેને મુખડે નૂર નહિ લવલેશ.

(૬)

સેવા મહાત્મય છે મોટું જેમાં તે છે સનાતન ધર્મ નિજાર;
જતી સતીનો ધર્મ જાણો ત્યજી મોહમાયાની જંજાળ.

(૭)

વચન વિવેકી જે હોય નરનારી નેકી ટેકીને વળી વૃતધારી;
તે સૌ છે સેવક અમારા જે હોય સાચાને સદાચારી.

(૮)

માત મિતા ગુરુ સેવા કરવી કરવો અતિથી સત્કાર;
સ્વધર્મનો પહેલા વિચાર કરવો પછી આદરવો આચાર.

(૯)

પ્રથમ પરોઢીયે વ્હેલા ઉઠવું પવિત્ર થઈ લેવું ધણીનું નામ;
એકમના થઈ અલેખને આરાધવા પછી કરવા કામ તમામ.

(૧૦)

એક આસને અજપા જાપ જપવા અંતઃકરણ રાખવું નિષ્કામ;
દશેય ઈન્દ્રીયોનુ જ્યારે દમન કરશો ત્યારે ઓળખાશે આત્મરામ.

(૧૧)

દિલની ભ્રાંતી દૂર કરવી ત્યજવા મોહ માન અભિમાન;
મૃત્યુ સિવાય સર્વે મીથ્યા માનવું સમજવું સાચુ જ્ઞાન.

(૧૨)

સંપતિ પ્રમાણે સોડ તાણવી કિર્તિની રાખવી નહિં ભુખ;
મોટપનો જો અહં ત્યજશો તો મટી જાશે ભવ દુઃખ.

(૧૩)

સદવર્તનને શુભાચાર કેળવવા વાણી વદતાં કરવો શુધ્ધ વિચાર;
સ્વાશ્રયે જીવન વિતાવવું અલખ ધણીનો લઈ આધાર.

(૧૪)

દીનજનોના સદા હિતકારી પરદુઃખે અંતર જેનું દુઃખાય;
નિશ્વય જાણવા તે સેવક અમારા કદીએ નવ વિસરાય.

(૧૫)

નિસ્વાર્થીને વળી સમભાવી જેને વચનમાં પૂર્ણ વિશ્વાસ;
એક ચિતે ભકિત કરે તેને જાણવા હરિના દાસ.

(૧૬)

જનસેવામાં જીવન ગાળે તે નર સેવા ધર્મી કહેવાય;
ઉંચ નીચનો ભેદ ન રાખે તેવા સમદર્શી નર પૂજાય.

(૧૭)

ભક્તજન અમારા જાણવા સર્વે જેને છે મુજ ભકિતમાં વિશ્વાસ;
અંતરિક્ષ અને પ્રગટ પરચો પામે પામે પૂર્ણ વિશ્વાસ.

(૧૮)

કોઈ જન સાચા કોઈ જન ખોટા આપ મતે ચાલે સંસાર;
પરવૃતિમાં ચાલે કોઈ વિરલાં કોઈ વિવેકી નર ને નાર.

(૧૯)

ભકિતને બહાને થાય કોઈ અનાચારી તો કોઈ વ્યભિચારી;
તે જન નહિ સેવક અમારા નહિ પાટપૂજાના તે અધિકારી.

(૨૦)

ભકિતભાવ નિષ્કામ કર્મમાં જે તે ભક્ત અમારા સત્ય સુજાણ;
નરનારી તે પ્રેમે પામે ચોવીસ અવતારની આજ્ઞા પ્રમાણ.

(૨૧)

સભામહિ સાંભળવું સૌનું રહેવું મુજ આજ્ઞા પ્રમાણ;
મુજ પદ નો તે છે જીવ અધિકારી પામી પદ નિરવાણ.

(૨૨)

નવને વંદન, નવને બંધન, વળી જે હોય નવઅંકા;
નવધા ભક્તિ તે નરને વરે, વરે મુક્તિને કોઈ નરબંકા.

(૨૩)

દાન દીએ છતાં રહે અજાચી વળી પારકી કરે નહિ આસ;
આઠે પહોર આનંદમાં રહે તેને જાણવો મુજ અંતર પાસ.

(૨૪)

હું છું સૌનો અંતરયામી નિજ ભક્તનો રક્ષણહાર;
ધર્મ કારણ ધરતો હું વિધવિધ રૂપે અવતાર.

રામદાસ કહે સુણો સંતજન,

લીલુડો ઘોડો ભમર ભાલો પીરે દીધી પરમ પદની ઓળખાણ;
સમાધી ટાણે બોધ રૂપે આપી આજ્ઞા ચોવીસ ફરમાન.
_________________________________________________________________________________

The article "व्यासपीठ सत्य भूमिका का पर्याय है : मुरारी बापू" displayed below is with the courtesy of udaipurnews




मानस रामदेव पीर का सातवां दिन, बापू ने किया पौधरोपण

Read the article at its source link.




रामदेवरा। चेतना के द्वारा जीवन में सब कुछ संभव है। सत्य भूमिका है, प्रेम पाठ है और करूणा कलष है। व्यासपीठ सत्य भूमिका का ही एक पर्याय है और सत्य की भूमिका लेप है। पाठ पवित्र वस्तु है इसी उद्गार के साथ व्यासपीठ से हजारों श्रोताओं को आषीर्वचन प्रदान करते हुए रामकथा के सातवे दिन मुरारी बापू ने कहा कि प्रेम क्या नही कर सकता है। प्रेम विराने को भी गुलिस्ता बना सकता है। आज सब एक दूसरे को सुधारने में लगे हुए है। कथा में आने से तथा उसका श्रवण करने से सुधरने एवं सुधारने की संभावनायें बढ़ जाती है।

बापू ने भक्ति के बारें में विस्तार से चर्चा करते हुए बताया कि माता पिता और गुरू की सेवा रामदेव बाबा का प्रमाण है। उपाधि ध्यान की धारणा से जाती है। ध्यान स्वामित्व की धारणा है। ध्यान पर आसन लगायें। उसकी धारणा से ही उपाधियां नश्ट होती है। भाशा भिन्न भिन्न हो सकती है लेकिन उसका सार एक होता है। बापू ने रामकथा के दौरान प्रभु राम के जनक उपवन तथा सीता स्वयंवर प्रसंगों कोे दर्षाया।


समाधि के कई अर्थ : मुरारी बापू ने मानस रामदेव पीर के कथांक पर चर्चा करते हुए बताया कि रामदेवरा में बाबा की समाधि जीवंत रूप में विद्यमान है। आज के युग में जीवित समाधि को समझने के लिए पतंजलि के अश्टांग योग सूत्र की सीढ़ियों को पहचानना आवष्यक है। पतंजलि अन्तर जगत के वैज्ञानिक थे। उन्होने समाधि की इसमें पूरी व्याख्या की है। जिसके जीवन से आदि, व्याधि और उपाधि निकल जाये वही समाधि है। गुणातित से पार सभी अवस्थायें समाधि है। सात पतंजलि के आगे का कदम समाधि है। हम जैसे मनुश्य भी इस जीवन में जीवित समाधि पा सकते है उसके लिए जीवन मृत्यु केवल अवस्था के रूप में एक समान है। गुरू कृपा में हम जीवित समाधि की ओर बढ़ सकते है। नामदेव, मीरा, जैसल, तोरल, नरसी सभी जीवित समाधि का ही एक रूप है।

24 अंक महत्वपूर्ण : संस्कृति में 24 अंकों का महत्वपूर्ण स्थान है। सर्वमान्य तत्व गणना में संसार में 24 तत्व है। जैन धर्म में 24 तीर्थंकर तथा वेद माता गायत्री के मंत्र में भी 24 अक्षर है। हमारे यहां 24 अवतार अवतरित हुए है। बाबा रामदेव पीर ने भी 24 पर्चे दिए है। हमारे रोम रोम में पाप एवं बुराई भरी हुई है। बाबा पीर ने अपने पर्चे में कहा कि पाप से दूर रहो और निज कर्म में ध्यान धरों। गुरू चरण में पाप को सुनाने एवं प्रकाषित करने से इंसान पाप मुक्त हो सकता है। अपने धर्म में ध्यान रखना और पाप से डरते हुए जीव मात्र पर दया करना और भूखें को अन्न देना बाबा के पर्चे का अंष है। दया धर्म का मूल मंत्र है अतः हमें धर्म के निकट रहना चाहिए। अपनी बुराईयां एवं मन की पीड़ा दुनिया के सामने नही बल्कि गुरू के पास जाकर कहनी चाहिए। दूसरा फरमान सार और सार का विचार है। तीसरा गत गंगा में षामिल हो जाना है। चौथा सूत्र गुरू पद सेवा है। पांचवा फरमान तन के उजले एवं मन के मलिन प्रपंच से दूर रहे। छठा पर्चा सेवा धर्म का महत्व बहुत बड़ा है। सातवा पर्चा वचन विवेकी, आठवा पर्चा माता,-पिता, गुरू सेवा एवं अतिथि सत्कार, नौवा पर्चा पहली सवेरे पवित्र होकर आराध्य का नाम लेना एवं फिर अपना नित्य कर्म करना के बारें में बापू ने विस्तार से व्याख्या की।

मानस में गत गंगा के 5 सूत्र : गीता के 12वे भाग में भक्ति को योग कहा गया है। भक्ति बहती रहती है। गीता में लिखा गया है कि प्रसन्न रहों, अपेक्षा ना करों तथा सब में हरि दर्षन करो। भक्ति करनी हो तो पांच चीजों को छोड दो। भक्ति स्वयं योग होती है। भक्ति में यज्ञ, जप, तप तथा उपवास करने की जरूरत नही है। षौक बहुत छोटी चीज है। विवेकी व्यक्ति ही पीर और नीर को विलख कर सकता है। प्राणी मात्र में सम दृश्टि रखे और किसी से भी अपेक्षाये ना करे। यही सुखी जीवन का मूल मंत्र है।

युवाओं के लिए भक्ति का साधन बताते हुए बापू ने कहा कि युवाओं को चाहिए कि अपने स्वभाव को सरल करो, बोलों तो सरल बोलो और सुनों तो सरल सुनो। मन की कुटिलता छोड़ों क्योंकि सब अपना प्रारब्ध भोग रहे है। क्यों किसी की निन्दा, ईश्या एवं द्वेश करों। हमारे प्रमाणिक प्रयत्न एवं भगवान की कृपा से जो मिल रहा है उसमें संतुश्ट रहना भजन है। भक्ति में प्यास तो हो लेकिन आषा ना हो। गंग गीता का एक और सूत्र विष्वास या भरोसा है।

प्रत्येक नदी का एक फल : बापू ने कहा कि हम नदियों के लिए लड रहे है लेकिन गत गंगा को भूल गये। हमारें यहां प्रत्येक नदी में स्नान व पूजा करने से उसका प्रतिरूप फल मिलता है। तापी नदी में स्नान करने से तपस्या, गंगा में स्नान करने से भक्ति मिलती है। विद्वान होना है तो रेवा में स्नान करो। यमुना में स्नान करने से ब्रज भूमि, सरस्वती में स्नान करने से ब्रह्म विद्या तथा सरयू में स्नान करने से ज्ञान की प्राप्ति होती है। रूपावा नदी तलगाझरडा में स्नान करने से रामचरित मानस मिलती है। कावेरी नदी में स्नान करने से संत मिलन, कृश्णा में स्नान करने से कृश्ण दर्षन होते है। मानस की भक्ति में स्नान करों तो जप, तप, व्रत और उपवास की जरूरत नही होती है।

सत्संग से साधु की प्रियता प्राप्त करें उसके बाद ही श्रद्धा की पार्वती का दर्षन होगा। सच्ची श्रद्धा हो जाए तो कोई ना कोई सदगुरू मिल ही जायेगा और वह कहेगा कि मैने राम को देखा है और मेरे साथ चलने से तुझें भी राम के दर्षन हो जायेंगे।

बापू ने कहा कि इस कलि काल में नौ चीजों से प्रभु की भक्ति की जा सकती है। यह नौ चीजे योग, जग्य, जप, तप, व्रत, पूजा, राम नाम सुमिरन, राम नाम गायन और राम नाम श्रवण इनके अतिरिक्त अन्य कोई साधन नही है।

जानकी भक्ति है तो धनुश अहंकार का प्रतीक : बापू ने कहा कि अभिमान से भक्ति नहीं मिलती है। जानकी भक्ति और धनुश अहंकार का प्रतीक है। रामकथा में सीता विवाह के प्रसंग का वर्णन करते हुए बताया कि षिव धनुश (पिनाकपाणि) जब टूटा तो उसने स्वयं को प्रभु के चरणों में पाया। अहंकार के टूटने पर ही भक्ति मिलती है और गुरू के सुमिरन के बिना अहंकार नही टूटता है। बापू ने कहा कि उठो, जागों और लक्ष्य को प्राप्त करों यही उपनिशेद का मूल सूत्र है।

बापू ने किया वृक्षारोपण : बापू ने पर्यावरण के प्रति जागरूकता लाने के लिए षुक्रवार को गोमठ स्थित कृश्ण कुंज में दो नीम, दो जामून एवं एक आम का पौधा लगाया। बापू ने लोगों से आह्वान किया कि वे भी पर्यावरण के प्रति जागरूक रहे। बापू कथा के पष्चात श्रीमूल योगी आश्रम रामदेवरा तथा बीएसएफ कैम्पस पहुंचे तथा वृक्षारोपण कर सीमा सुरक्षा बल के जवानों से मुलाकात की।

कल होगा कथा का विराम : नो दिवसीय रामकथा का विराम रविवार को होगा। पांच नवम्बर से षुरू हुई रामकथा 13 नवम्बर को पूर्ण होगी।

_________________________________________________________________________________

The article "नर बनकर कमाओं और नारायण बनकर बांटो : मुरारी बापू" displayed below is with the courtesy of udaipurnews.


नर बनकर कमाओं और नारायण बनकर बांटो : मुरारी बापू

मानस रामदेव पीर का आठवां दिन

Read the article at its source link.



रामदेवरा। भूख पांच प्रकार की होती है। प्रथम आहार की जो हर प्राणी मात्र में पाई जाती है। प्राणियों को आहार की भूख होती है लेकिन धन की नही। द्वितीय वासना की भूख। तृतीय सुख की भूख, चौथी कीर्ति एवं प्रतिश्ठा की भूख और अंतिम भूख भाव की होती है।

साधु भाव का भूखा होता है धन का नही। यह उद्गार राश्ट्रीय संत मुरारी बापू ने रामदेवरा में आयोजित रामकथा में षनिवार को व्यासपीठ से अपने आषीर्वचन में कही। बाबा के धाम रामदेवरा में आयोजित रामकथा के आंठवें दिन कथा में सर्वाधि हुजुम देखने को मिला। कथा प्रारंभ होने से पूर्व ही कथा पाण्डाल श्रोताओं से खचाखच भर चुका था। व्यासपीठ से कथा पाण्डाल का नजारा ऐसा प्रतीत हो रहा था मानों कोई जन ज्वार सा उमड़ पडा हो। हर एक निगाह मुरारी बापू के दर्शन को आतुर थी और हर हाथ बापू को अभिनन्दन को लालायित था।
व्यासपीठ से मानस रामदेव पीर के प्रसंग को आगे बढ़ाते हुए बापू ने जनमानस को संदेश दिया कि नर बनकर कमाओं और चारों हाथों से नारायण बनकर बांटो। मुरारी बापू ने बताया कि अवतार का कार्यकाल निष्चित होता है और वे चेतना के रूप में कार्य करते हैं। अवतार स्थलान्तर एवं रूपान्तर भी कर लेते है। बापू ने बाबा रामदेव पीर के 24 पर्चों का उल्लेख करते हुए बताया कि जो कहा गया है उसे और सरल बनाकर समाज के सामने पेश करना चाहिए। कीर्ति या प्रतिष्ठाह की भूख नहीं रखनी चाहिए। बाबा रामदेव ने ऊंच नीच का भेद मिटा दिया था। बाबा पीर ने अपने पर्चे में कहा कि भक्ति के बहाने धर्म के नाम पर जो अनाचार करे तथा दुराचारी बन जाये उसको मेरा भक्त या अनुयायी नही बनना चाहिए। भक्ति निष्कादम कर्म में जो भी है, वह बाबा पीर का अनुयायी है।

बापू ने रामकथा के तहत अयोध्याकाण्ड के प्रसंग में वाल्मिकी आश्रम, दशरथ कैकयी संवाद, राम को वनवास, दशरथ का देहदान, भरत का राज्याभिशेक, भरत द्वारा श्रीराम चरण पादुका लाना आदि को दर्शाया। अयोध्या काण्ड को रामायण का यौवन काल बताते हुए बापू ने कहा कि युवाओं को भगवान शिव का विषेश स्मरण करना चाहिए क्योंकि षिव स्मरण से विषेश मार्गदर्शन मिलता है।
बापू ने कहा कि जहां परस्पर युद्ध ना हो और कलह के बिना काया हो वह अयोध्या के समान है। समर्पण के लिए सब मुहुर्त शुभ होते है। आत्मा राम की पहचान होती है। युवा भ्रमित ना हो जाए इसलिए रामकथा में विशेष बातें की जाती है। यह कलियुग नहीं कथा का युग है।

पीर सार्वभौमिक शब्द : बापू ने कहा कि पीर सार्वभौमिक शब्द है। किसी भी व्यक्ति में पंच गुणों का निवास हो वह पीर का रूप होता है। उसका वर्ण, देश और भाषा इसमें महत्वपूर्ण नही है। उन्होंने कहा कि चाहे वो लीले कपडे में न हो, चाहे घोड़े पर न हो, चाहे तलवार न लिए हो, लेकिन मेरा अवलोकन कहता है कि जिस व्यक्ति में 5 प्रकार के लक्षण होते है वह पीर है।

जहाँ कोई पर्दा न हो उसको पीर समझना चाहिए। वो पेंट शर्ट पहने हो तो भी पीर समझना, जहाँ कपट, छल, दंभ, पाखण्ड का पर्दा ना हो वो भी पीर का ही रूप है। पीर का द्वितीय लक्षण प्रेम का प्याला है अर्थात जिस आंख में पीड़ा देखकर आंसू आ जाये वह भी पीर का ही एक रूप है। जिसकी आँखो में वासना न उपासना हो वो भी पीर है। पूर्ण रूप से जगत के लिए जो समर्पित हो जाए, परम या पूर्ण का प्रमाण मिलने लगे वह पीर है। महसूस हो कि ये व्यक्ति परम है पामर नहीं तो समझना ये भी पीर है। जिसकी प्रतिष्ठाह हो फिर भी वो असंग बना रहे वो भी पीर है। गंगासति कहती है न सुख न दुःख, जिसको कोई न छुए वो पीर है।

बापू ने कहा कि इन अवलोकनों के मुताबिक कही बात दिखे तो मानने में में देर मत करना कि ये पीर है। अन्तःकरण की प्रवृत्ति में प्रवाह हो वह परम पीर है। दुख विपत्ति आपत्ति सभी पर आती है लेकिन जो भजन कर उपर उठ जाते है एवं किसी भी पद या प्रतिश्ठा के बाद भी असंग रहते है, वह पीर भी है।
नव बंधन : मंत्र, मूर्ति एवं माला को कभी भी नही बदलना चाहिए। बापू ने कहा कि जीवन में निरन्तर नव बंधन होना चाहिए। गुरू बंधन, गुरू मंत्र बंधन, गुरू माला बंधन, गुरू दत्त बंधन, गुरू दत्त शास्त्र, गुरू दत्त वस्तु, गुरू वचन बंधन, अश्रु का बंधन तथा गुरू स्थान का बंधन होना चाहिए। युवाओं को चाहिए कि गुरू के चरण में मन रूपी दर्पण की शुद्धि हो।

संत कृपा सनातन संस्थान की ओर से रामदेवरा में आयोजित रामकथा के आठवे दिन कथा स्थल पर राजस्थान सरकार के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री राजेन्द्र राठौड़, कथा संयोजक मदन पालीवाल, प्रकाश पुरोहित, रविन्द्र जोशी, रूपेश व्यास, विकास पुरोहित सहित कई गणमान्य अतिथियों ने व्यासपीठ पर पुष्पए अर्पित किये तथा कथा श्रवण का लाभ लिया। इस मौके पर सीमा सुरक्षा बल के जवान एवं अधिकारी भी उपस्थित थे।
बापू पहुंचे गोशाला : मुरारी बापू शनिवार को रामकथा की समाप्ति के बाद बाबा रामदेव नंदी ग्राम गोशाला पहुंचे तथा वहां वृक्षारोपण भी किया।

राम कथा विराम आज : बाबा पीर की नगरी में चल रही नौ दिवसीय अभूतपूर्व रामकथा का विराम रविवार को होगा। रामकथा 5 नवम्बर से षुरू हुई थी जो आज विराम लेगी।

_________________________________________________________________________________

The article "मानस की कथा बाबा रामदेव पीर को समर्पित : बापू" displayed below is with the courtesy of udaipurnews.

मानस की कथा बाबा रामदेव पीर को समर्पित : बापू

आखिरी दिन उमड़ी जनमेदिनी, छलके आंसू

Read the full article and pictures at the source link.


रामदेवरा। रामदेवरा में नौ दिवसीय मानस रामदेव पीर रामकथा का रविवार को समापन हो गया। आयोजन की भव्यता, शालीनता, उमड़े जनज्वार और कथा में रस वर्षा के अनंत, अपूर्व प्रवाह से उत्साहित मुरारी बापू ने मुसाफिर तुम भी हो, मुसाफिर हम भी है, फिर किसी मोड़ पर मुलाकात होगी। इन्ही शब्दों के साथ रामकथा को विराम दिया।

बापू ने मानस की इस कथा को पहले रामदेव पीर की समाधि को समर्पित किया तथा बाद में वहां से प्रसाद के रूप में सीमा सुरक्षा बल के जवानों को समर्पित किया। जाट धर्मशाला के निकट स्थित पाण्डाल में रामकथा के नवें दिन श्रोताओं की तादाद इतनी थी कि कथा की शुरूआत के नियत समय से पूर्व ही पूरा पाण्डाल खचाखच भर चुका था।

आखिरी दिन अपूर्व जनसैलाब उमड़ पडा तथा विदाई की वेला में हजारों श्रद्धालु भावों से भर उठे, श्रोताओं के नयनों से आंसू छलक उठे। मुरारी बापू ने व्यास पीठ से जनमानस, समाज, देश और पूरे पृथ्वी के जीवों के कल्याण की कामना की तथा सबको सन्मति दे, सभी प्रसन्न रहे भगवान… कहकर प्रभु से प्रार्थना की।

रामकथा के आखिरी दिन पाण्डाल में बैठे हजारों श्रोताओं को व्यासपीठ से सम्बोधित करते हुए बापू ने उपनिषद् की दृष्टि में इन्द्रियों को घोड़ा बताया और कहा कि जब इन्द्रियां विदाई लेती है तभी आदमी की मृत्यु घोषित हो जाती है। श्रद्धा जगत में समाधि के बाद अमन हो जाता है और उसका मन रूपी घोड़ा चला जाता है।
बाबा रामदेव पीर ने भैरवा को मारने के लिए अवतार लिया। उन्होने नहीं जागने वालों को जगाने के लिए, समाज में समरसता लाने के लिए, छूआछूत तथा अस्पृश्यजता मिटाने के लिए अवतार लिया। बाबा ने सेवा की, समर्पण किया तथा जीवंत समाधि ले ली। घोड़े पर बैठने का मतलब सक्रिय होना है। समाधि में जो जाएगा, उसका मन रूपी घोड़ा रहेगा ही नहीं।

रामकथा की पूर्णाहुति के मौके पर रविवार को बापू ने अरण्य काण्ड, किश्किन्धा काण्ड, सुन्दर काण्ड, लंका काण्ड और उत्तर काण्ड के प्रसंगों को दर्शाया। उन्होंने बताया कि रामचरित मानस में एक एक शब्द परम विशेषता रखता है।

रामायण इतिहास नहीं… : मुरारी बापू ने मानस का प्रसंग देते हुए कहा कि रामचरित मानस एक संहिता के भंवर की तरह है और जिसमें तरंगे विलख विलख, विषिश्ट व्याख्या भी अलग अलग प्रसंग के साथ रामचरित मानस में उल्लेखित है। रामकथा सरल लगती है पर यह वास्तव में सरल नही है। रामकथा आसुरी षक्ति को मनुश्य बना देती है। स्त्री कुछ समय के लिए कामी व्यक्ति को प्रिय लगती है, धन लौभी व्यक्ति को कुछ समय प्रिय लगता है लेकिन परमात्मा लंबे समय तक प्रिय रहे यही रामकथा का सार है।

भक्ति विमुख को सम्मुख करती है : गंगा सती कहती है कि संत का चित्त अत्यंत कोमल होता है। संत का आश्रय लेकर सोचों कि माफी कहा मांगनी चाहिए। जिसका अपराध किया हो माफी भी उसी से ही मांगनी चाहिए। भक्ति के बिना परमात्मा की षरण में कोई नही जा सकता। भक्ति ही विमुख को ईष्वर के सम्मुख करती है। गुरू के साथ चलने की जरूरत नही है। गुरू के वचन पर भरोसा करें तो बेडा पार हो जायेगा।
प्रेम सेवा करवाता हैं : प्रेम देहगत, मनोगत तथा आत्मगत तीन प्रकार का होता है। बाबा रामदेव पीर ने सेवा की, स्मरण किया तथा समाधि ली। बाबा पीर जब षरीर रूप में थे तो बहुत सेवा की। मनोगत प्रेम में अलख का सुमिरन करते है और जब आत्मगत प्रेम में जाते है तब आत्म साक्षात्कार करते हुए परम समाधि में जाते है। षरीरगत प्रेम सेवा कराता है। मनोगत प्रेम परम तत्व का सुमिरन कराता है। गोपियों का प्रेम जब तक षरीरगत था तब तक वो गायों की सेवा करती रही। लेकिन जब प्रेम मनोगत की अवस्था आती है तो सुमिरन करती है। राम मनोगत प्रेम में भरत का सुमिरन करते थे। अकारण षिश्यों को याद करना गुरूजनों का मनोगत प्रेम है। मनोगत प्रेम के बाद आत्मगत प्रेम की अवस्था आती है वह हमें साक्षात्कार कराती है। प्रेम और काम दोनों आकर्शित करते है लेकिन काम निम्न अवस्था है।

प्रेम की तरह काम भी तीन प्रकार का होता है। षरीरगत काम भोग में ले जाता है। मनोगत काम भाव में ले जाता है। आत्मगत काम परम गत में ले जाता है। षरीरगत काम गुलाब का पौधे के रूप में होता है जो गमले में कैद होता हैं मनोगत काम फल की तरह होता है जो दूसरों को वष में कर लेता है। आत्मगत काम खुषबु की तरह होती है जिसको बंधन में नही रखा जा सकता है।

चार तरह की नारी : उत्तम, मध्यम, नीच तथा निकृष्टह चार तरह की नारी होती है। हम इंसान हैं, इसलिए दूसरों के दाम्पत्य जीवन में कभी भी दीवारें ना बनायें क्योंकि कौआ कभी राजहंस नहीं हो सकता। पहली तरह की स्त्री को सपने में भी अपने पति के सिवाय कोई अन्य पर पुरूष नजर नही आता है। दूसरी मध्यम क्रम की स्त्री जिसे दूसरा पुरूष नजर तो आता है लेकिन उम्र से बड़ा बाप, सम उम्र भाई तथा छोटा बेटा समान नजर आता है। तीसरी स्त्री के मन में खोट तो आने लगती है लेकिन वो धर्म और कुल का विचार कर गलत राह से वापस मुड़ जाती है और अपने को संभाल लेती है। अधम स्त्री को कुल मर्यादा की कोई चिन्ता नहीं होती है।
भय मुक्त कोई नहीं : जब काल का बाण छूटता है तो उससे कोई भी सुरक्षित नही रह सकता है। भारतीय सेना हिन्दुस्तान को चैन से सोने देती है, यही सेना की भक्ति है। जवान की कभी मृत्यु नहीं होती बल्कि उनकी मुक्ति होती है। सभी को किसी ना किसी का भय होता है लेकिन अभय की बात वैराग्य में होती है।
मैं प्रसन्न हूं … : रामकथा के आखिरी दिन मुरारी बापू ने व्यासपीठ से अपने भाव व्यक्त करते हुए कहा कि बाबा पीर की नगरी में रामकथा से मैं आनंदित हूं। किसी ना किसी काण्ड में मानस रामदेव पीर रामकथा का कोई ना कोई सूत्र मानव जीवन में आपकी मदद कर सकता है।

आपस में गले लग दी विदाई : नौ दिनों तक मानस रामदेव पीर की चर्चा और रामकथा का साथ श्रवण करते करते श्रोताओं में परस्पर प्रेम जाग गया। पाण्डाल में श्रोता कथा की समाप्ति पर भरे नेत्रों से परस्पर क्षमा प्रार्थना करते हुए एक दूसरे को गले लग विदाई देते रहे।

लौटे बापू, श्रद्धालु भी : मुरारी बापू कथा समाप्ति के बाद कुछ विश्राम के पश्चारत फलौदी एयरबेस से महुआ के लिए रवाना हो गये। गुजरात, महाराष्ट्रत, मध्यप्रदेश व राजस्थान के अन्य जिलों से आये हजारों श्रद्धालुओं के भी कथा के विराम के बाद लौटने का सिलसिला भी षुरू हो गया है।

एक झलक और आशीष मिल जाए : रामकथा के आखिरी दिन हर कोई बापू की एक झलक पाने और उनसे आशीष लेने को आतुर था। पाण्डाल में जनसमुदाय का एक रेला सा चल रहा था। पाण्डाल से सड़क तक, सड़क से लेकर दिल तक, दिल से लेकर नेत्रों तक सब कुछ आस्था से ओत प्रोत था। हर कोई भरे नेत्रों से अश्रु धारा बहाते हुए बापू के प्रति अपने आस्था के भाव को प्रकट कर रहा था।

संत कृपा सनातन संस्थान की ओर से आयोजित रामकथा के नवें दिन कथा स्थल पर राजस्थान सरकार के राजस्व मंत्री अमराराम चौधरी़, कथा संयोजक मदन पालीवाल, प्रकाष पुरोहित, रविन्द्र जोषी, रूपेष व्यास, विकास पुरोहित सहित कई गणमान्य अतिथियों ने व्यासपीठ पर पुश्प अर्पित किये तथा कथा श्रवण का लाभ लिया। इस मौके पर सीमा सुरक्षा बल के जवान एवं अधिकारी भी उपस्थित थे।
सबको शुभकामना : बापू ने कथा को अभूतपूर्व कार्यक्रम बताते हुए व्यवस्थाओं को सराहा साथ ही आयोजकों, राज्य सरकार, प्रशासन, पुलिस, स्वयंसेवकों तथा हर योगदानकर्ता के प्रति उन्होंने प्रसन्नता व्यरक्त  की। उन्होने कहा कि मेरी व्यासपीठ रामदेव एवं आप सभी को प्रणाम करती है।

_________________________________________________________________________________





















No comments:

Post a Comment